लोकसभा चुनाव : भाजपा उम्मीदवार कृष्णपाल गुर्जर हैं सबसे ज्यादा खर्चीले


लोकसभा चुनाव में फरीदाबाद लोकसभा सीट से फिर बतौर भाजपा उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरे कृष्णपाल गुर्जर सबसे ज्यादा अमीर होने के साथ-साथ सबसे ज्यादा खर्चीले भी हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में उन्होंने सबसे ज्यादा लगभग 33 लाख रुपये खर्च किए थे, जबकि 30 लाख रुपये खर्च करके इनेलो उम्मीदवार आरके आनंद दूसरे नंबर पर रहे थे। कांग्रेस उम्मीदवार अवतार सिंह भड़ाना 28 लाख रुपये खर्च करके तीसरे स्थान पर थे।

इस बार बसपा उम्मीदवार और पिछली दफा बतौर निर्दलीय उम्मीदवार रहे मनधीर मान ने करीब पांच लाख रुपये खर्च किए थे। अधिकांश उम्मीदवार एक लाख रुपये की सीमा पार नहीं कर पाए। गौरतलब है कि चुनाव आयोग की तरफ से प्रत्येक उम्मीदवार को चुनाव में 70 लाख रुपये तक खर्च करने की सीमा तय की हुई है।


गाड़ियों के तेल पर सबसे ज्यादा खर्चा : चुनाव के मैदान में उतरने वाले उम्मीदवारों का सबसे ज्यादा खर्चा गाड़ियों पर होता है। इनमें कई उम्मीदवारों ने गाड़ियां किराये पर ली हैं तो कई ने अपनी ही गाड़ियों में लाखों रुपये का तेल फूंक दिया। वाहनों में इनेलो उम्मीदवार ने सवा बारह लाख रुपये के रूप में सबसे ज्यादा खर्चा किया था, इसके बाद भाजपा उम्मीदवार ने करीब साढ़े 11 लाख गाड़ियों पर खर्च किए और कांग्रेस उम्मीदवार ने करीब सवा सात लाख रुपये खर्च किए। गाड़ियों के बाद मीडिया को दिए जाने वाले विज्ञापन के रूप में उम्मीदवार ज्यादा पैसा खर्च करते हैं। विशेष बात यह है कि अपने उम्मीदवारों को जिताने के लिए कड़ी मेहनत करने वाले पार्टी कार्यकर्ता और समर्थकों पर उम्मीदवार कुछ ज्यादा नहीं खर्च करते हैं।

2014 के चुनाव में कितना किया खर्चा
पार्टीउम्मीदवारखर्चा
भाजपाकृष्णपाल गुर्जर3322657 रुपये
इनेलोआरके आनंद3096623 रुपये
कांग्रेसअवतार भड़ाना2801098 रुपये
बसपाराजेंद्र1603780 रुपये
आम आदमी पार्टीपुरुषोतम डागर2417750 रुपये

विशेष बात
गाड़ियों के बाद मीडिया को दिए जाने वाले विज्ञापन के रूप में उम्मीदवार ज्यादा पैसा खर्च करते हैं। अपने उम्मीदवारों को जिताने के लिए कड़ी मेहनत करने वाले पार्टी कार्यकर्ता पर ज्यादा नहीं खर्च करते हैं।

तीन उम्मीदवारों ने एक पैसा भी खर्च नहीं किया 
वर्ष 2014 लोकसभा चुनाव में फरीदाबाद लोकसभा सीट पर चुनाव में उतरे 27 उम्मीदवारों में से तीन ऐसे उम्मीदवार थे, जिन्होंने एक पैसा भी खर्च नहीं किया, जबकि आठ उम्मीदवार ऐसे हंै, जिन्होंने जिला चुनाव कार्यालय में अपने खर्च का ब्यौरा नहीं दिया। 70 फीसदी से ज्यादा उम्मीदवारों का खर्चा एक लाख रुपये से नीचे रहा।
Share on Google Plus

About www.hindi.men