हरियाणा पुलिस को बड़ी सफलता : कैश वैन से एक करोड़ की लूट मामले में 6 आरोपी गिरफ्तार, 70 लाख रुपये भी बरामद

हरियाणा पुलिस ने 18 अप्रैल को गुरुग्राम में एक कंपनी की कैश वैन से बंदूक की नोक पर 96 लाख रुपये से अधिक की नकदी लूट के मामले में एक बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए छः आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से दो कार, चार मोबाइल फोन, एक पिस्तौल, चार जिंदा कारतूस और 70.5 लाख रुपये की नकदी भी बरामद की है। दिनदहाड़े हुई डकैती में पांच हथियारबंद लोगों ने 18 अप्रैल को एक कैश कलेक्शन कंपनी की वैन से व्यस्त सोहना रोड पर 96,32,931 रुपये लूट की वारदात को अंजाम दिया था। आरोपियों की पहचान छतरपुर, नई दिल्ली निवासी नीलकमल उर्फ कमल, दिवांकर अरोड़ा उर्फ मन्नू, कुलबीर और जावेद, जिला पलवल के गुलाब और जिला फरीदाबाद निवासी जॉनी के रूप में हुई है।

शोरूम के बाहर लगे सीसीटीवी के फुटेज के विश्लेषण के बाद, पुलिस ने पाया कि कार पर लगी नंबर प्लेट यूपी 17 टी 7809 वाली ऑल्टो कार थी। जो बाद में फर्जी पाई गई। इस मामले में 4 पुलिस टीमों को लगाया गया और कैश वैन लूट के पुराने मामलों, कैश ट्रांसपोर्ट कंपनी के पूर्व कर्मचारियों और गुरुग्राम में सीसीटीवी फुटेज को देखना शुरू किया। जिसके बाद कार का नंबर छतरपुर के पते के साथ दिल्ली का पाया गया। उसी रात एक टीम ने छतरपुर निवासी दीवांकर अरोड़ा उर्फ मन्नू को काबू किया, कार के साथ ही नकली यूपी नंबर प्लेट भी बरामद की। उसे शुक्रवार को अदालत में पेश किया गया और पुलिस ने उसे 28 अप्रैल तक रिमांड पर लिया। पूछताछ में उसने कार लूटने में उसके साथ शामिल होने वाले अन्य लोगों के नामों का खुलासा किया। तब पता चला कि एक अन्य साथी जीतू यूपी के लिए निकल गया था जबकि अन्य तीन वैष्णो देवी मंदिर के लिए निकल गए थे।

क्राइम टीम गुड़गांव पुलिस की तीन टीमें शुक्रवार दोपहर रवाना हुईं- एक कटरा के लिए, एक पठानकोट और तीसरी शंभू बॉर्डर पर तैनात थी। कटरा की टीम ने अपराधियों को एक होटल में ढूंढ़ लिया, लेकिन टीम के पहुंचने से कुछ मिनट पहले ही आरोपियों ने चेक आउट कर लिया था। इसके बाद उन्होंने शंभू और पठानकोट में टीमों को सतर्क किया। एसपी अंबाला से भी टोल स्थल पर मदद मांगी गई। तीनों लोगों को कल रात शंभू सीमा के पास अंबाला टोल प्लाजा से गिरफ्तार किया गया। प्रारंभिक पूछताछ के बाद शनिवार/रविवार की दरमियानी रात में छापेमारी की गई और 70.50 लाख रुपये, 1 रिवॉल्वर और 4 कारतूस बरामद किए गए और दो अन्य साथी कुलबीर और जावेद, दोनों छतरपुर को गिरफ्तार किया गया। जावेद एक पूर्व कर्मचारी था जो कंपनी की कैश वैन के ड्राइवर के रूप में काम करता था। छतरपुर में कुलबीर की ट्रांसपोर्ट कंपनी थी।

जावेद, कुलबीर और नीलकमल बचपन के दोस्त हैं। नीलकमल 2008/09 में भोंडसी जेल में जीतू और गुलाब के संपर्क में आया था, जहां तीनों अलग-अलग मामलों में बंद थे। नीलकमल दीवांकर के घर किराएदार के तौर पर रहता था। जॉनी नीलकमल का चचेरा भाई है। इन 7 लोगों ने कुलबीर के ऑफिस में मिलकर प्लान बनाया। उन्होंने 7 अप्रैल को रेकी की थी। 11 अप्रैल को प्रयास किया था, लेकिन जीतू के नहीं आने के कारण बात नहीं बनी। आखिरकार 18 अप्रैल को उन्होंने वारदात को अंजाम दिया। सभी 6 आरोपी 28 अप्रैल तक पुलिस रिमांड पर हैं। जीतू को गिरफ्तार किया जाना है।

हकृवि में क्लर्क की नौकरी के नाम पर युवती से 8 लाख की ठगी (HAU RECRUITMENT FRAUD)

 

हिसार। हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में क्लर्क की नौकरी के नाम पर सिरसा में एक युवती के साथ 8 लाख रुपये की ठगी कर ली। डिंग मंडी निवासी युवती ममता के अनुसार, आजाद नगर निवासी पवन कुमार वर्मा ने उससे यह पैसे ठगे हैं। मामले की शिकायत उसने पुलिस को दी तो जांच अधिकारी एएसआई नौरंग ने उससे 50 हजार रुपये की मांग की। आरोप है कि पैसे नहीं देने पर जांच अधिकारी नौरंग ने आरोपित से मिलीभगत कर उससे हुई ठगी के तमाम सबूत नष्ट कर दिए। 

सिविल लाइन थाना पुलिस ने पवन कुमार तथा एएसआई नौरंग के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। ममता ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि फरवरी 2020 में बस अड्डा के पास एक सिक्योरीटी प्लेसमेंट दफ्तर में उसकी मुलाकात पवन कुमार के साथ हुई थी। यहां पवन ने उससे कहा था कि वह उसको एचएयू में क्लर्क लगवा सकता है। इसके लिए 8 लाख रुपये का इंतजाम करना होगा। इसके बाद उसने 3 मार्च 2021 तक पवन को नकद तथा बैंक ट्रांसफर के माध्यम से 8 लाख रुपये दे दिए। पैसे देने के बाद भी पवन ने न तो उसे नौकरी लगवाया और न ही पैसे वापस किए।

इसके बाद ममता ने 22 अप्रैल को एक शिकायत बस स्टैंड चौकी में दी। इसकी जांच के लिए एएसआई नौरंग ने उसे बुलाया और कहा कि अगर पैसे वापस लेने हैं तो 50 हजार रुपये उसे देने पड़ेंगे। ममता का आरोप है कि पवन कुमार ने उसको कोर्ट परिसर में धमकी दी व 50 हजार रुपये नहीं देने पर एएसआई नौरंग ने उसके द्वारा दिए सबूत नष्ट कर दिए हैं। सिविल लाइन थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जानें लीना खान के बारें में (Know more About Leena Khan), Meta (पहले Facebook) को Instagram और WhatsApp ऐप्स को बेचना पड़ सकता है.


कौन है लीना खान? 

लीना खान का जन्म 3 मार्च 1989 को लंदन, यूनाइटेड किंगडम में पाकिस्तानी माता-पिता के यहाँ हुआ था। लीना खान 11 साल की उम्र में संयुक्त राज्य अमेरिका चली गईं। 2010 में, उन्होंने विलियम्स कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की , जहाँ उन्होंने हन्ना अरेंड्ट पर अपनी थीसिस लिखी । विलियम्स कॉलेज में अपने समय के दौरान, खान ने छात्र समाचार पत्र के संपादक के रूप में कार्य किया।

33 साल की लीना खान (Lina Khan) का नाम एंटीट्रस्ट इशू के साथ पुराने वक्त से जुड़ा हुआ है. जब वह Yale Law School में थी तब से वह अमेरिका में एंटीट्रस्ट और कंपटीशन लॉ काम के लिए जानी जाती हैं. मार्च 2021 में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने उन्हें कमीशन में अपॉइंट किया और वह जून 2021 से काम कर रही हैं. इसके साथ ही वह Columbia Law School में एसोसिएट प्रोफेसर भी हैं. 

बिक जाएंगे Insta और WhatsApp

Instagram और WhatsApp दोनों ही ऐप्स Meta (Facebook) के रेवेन्यू का बड़ा हिस्सा हैं, लेकिन कंपनी ऐसा क्यों करेगी? इसका कारण फेडरल ट्रेड कमीशन है, जिसका नेतृत्व Lina Khan (लीना खान) कर रही हैं. लीना खान (Lina Khan) को पिछले साल मार्च में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कमीशन में अपॉइंट किया. फेडरल ट्रेड कमीशन को फेडरल जज से हरी झंडी मिल गई है, जिसके बाद वह एंट्री ट्रस्ट मामले में दिग्गज टेक कंपनी Meta को कोर्ट में घसीट सकता है.

हालांकि, इससे पहले पिछले साल भी एजेंसी मेटा (तब फेसबुक) के खिलाफ कोर्ट जा चुकी है. उस वक्त कोर्ट ने कम जानकारी के कारण इस मामले की सुनवाई नहीं की. इस बार FTC अपनी शिकायत में बदलाव के साथ कोर्ट पहुंचा है. FTC का आरोप है कि सोशल नेटवर्क क्षेत्र में Meta की मोनोपोली है. हालांकि, FTC की नजर सिर्फ सोशल मीडिया कंपनी Meta पर ही नहीं, बल्कि Amazon और गूगल पर भी है. 


FTC ने पहले दी थी मंजूरी

ध्यान दें कि साल 2012 में FTC ने ही फेसबुक की 1 अरब डॉलर में इंस्टाग्राम के अधिग्रहण को मंजूरी दी थी. उस वक्त कंपनी में 13 कर्मचारी थे. इसके दो साल बाद यानी साल 2014 में फेसबुक ने इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp को 19 अरब डॉलर में खरीदा. अब FTC दलील दे रहा है कि फेसबुक ने क्रम से अपने कंपटीटर्स को खरीदा है और मोनोपोली बनाई है. कमीशन का आरोप है कि कंपनी के प्रभाव के कारण कंज्यूमर्स को कम विकल्प मिल रहे हैं. साथ ही इस बाजार में नए टेक और बिजनेस इनोवेशन भी नहीं आ रहे. इससे प्राइवेसी प्रोटेक्शन में भी कमी आई है. 

अमेरिका में एंट्रीटस्ट्र मोनोपोली लॉ की पैरवी करते हुए लीना खान में अपने करियर में बड़ी टेक कंपनियों को चुनौती दी है. हालांकि, मेटा ने अपने बचाव में लीना की इसी इमेज का इस्तेमाल किया है. कंपनी का दावा है कि लीना कंपनियों को लेकर पक्षपात करती है. वहीं मामले की सुनवाई कर रहे फेडरल जज James E. Boasberg ने मेटा के इस दावे को खारिज कर दिया.

निजी क्षेत्र की नौकरियों में हरियाणा के युवाओं को 75 फीसदी आरक्षण अब लागु, जानें- कैसे मिलेगा हरियाणा वासियो को लाभ (75% Reservation Rule in Haryana)



हरियाणा के युवाओं को 15 जनवरी से 30 हजार रुपये तक की निजी नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण मिलना शुरू हो जाएगा। सरकार ने हरियाणा राज्य स्थानीय व्यक्ति रोजगार अधिनियम, 2020 लागू करने के लिए अधिसूचना 2021 में ही जारी कर दी थी, जो कि शनिवार से पूरे प्रदेश में प्रभावी हो जाएगी। निजी कंपनियों, ट्रस्ट व सोसायटी इत्यादि में प्रदेश के युवाओं को मिले रोजगार से जुड़े आंकड़े हरियाणा श्रम विभाग की वेबसाइट पर मौजूद रहेंगे। वेबसाइट पर जाकर कोई भी उन्हें देख सकता है। 

श्रमायुक्त ने शुक्रवार को बताया कि 15 जनवरी से लागू हो रहे कानून से जुड़ी हर जानकारी पाने के लिए विभाग ने पोर्टल भी बनाया हुआ है। कानून प्रभावी होने से 10 वर्ष तक लागू रहेगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बीते वर्ष इस कानून की अधिसूचना जारी होने के बाद प्रदेश को 2024 तक बेरोजगार मुक्त-रोजगार युक्त बनाने का नारा दिया है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए यह कानून बेहद अहम है। इससे राज्य के हजारों युवाओं को रोजगार मिलेगा।

सरकार में सहयोगी जजपा ने हरियाणा में लगी कंपनियों में स्थानीय युवाओं को 75 फीसदी रोजगार दिलाने का वादा विधानसभा चुनाव में किया था। उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला का कहना है कि कंपनियों को कर्मचारियों का डाटा सरकार को उपलब्ध कराने के लिए 15 जनवरी तक का समय दिया था। कंपनियों ने जानकारी श्रम विभाग के पोर्टल पर डाल दी है।

निजी कंपनियों व ट्रस्ट आदि को श्रम विभाग हरियाणा की वेबसाइट पर उपलब्ध पोर्टल पर सकल मासिक वेतन या 30 हजार रुपये से अधिक वेतन प्राप्त करने वाले अपने सभी कर्मचारियों को पंजीकृत करना अनिवार्य है। इस कानून के किसी भी प्रावधान का उल्लंघन दंडनीय अपराध है।

जानकारी छुपाने पर ये होगी कार्रवाई

कोई कंपनी, फैक्टरी, संस्थान, ट्रस्ट अपने कर्मचारियों की जानकारी छुपाएगा तो जुर्माने का प्रावधान है। निजी सेक्टर में कार्यरत किसी भी कर्मचारी को हटाया नहीं जाएगा। 30 हजार रुपये तक की नौकरी वाले हर कर्मचारी को श्रम विभाग की वेबसाइट पर अपने नाम का पंजीकरण कराना होगा। यह निशुल्क है। इसकी जिम्मेदारी संबंधित कंपनी, फर्म अथवा रोजगार प्रदाता की होगी। जो कंपनी अपने कर्मचारी की सूचना पंजीकृत नहीं करवाएगी उसे हरियाणा स्टेट एम्प्लॉयमेंट टू लोकल केंडिडेट्स एक्ट-2020 के सेक्शन-3 के तहत 25 हजार से एक लाख रुपये तक जुर्माना किया जा सकेगा। अगर फिर भी कंपनी कानून का उल्लंघन करती है तो उसे हर रोज पांच हजार रुपये का जुर्माना लगेगा।


ये रहेगा कानून का प्रारूप

हरियाणा स्टेट एम्प्लॉयमेंट टू लोकल कैंडिडेट्स एक्ट-2020 प्रदेश के सभी निजी उद्योगों, फर्म अथवा हर उस रोजगार प्रदाता पर लागू होगा, जहां 10 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। यह नियम पहले से कार्यरत कर्मचारियों पर लागू न होकर नई भर्तियों पर लागू होगा।


भिवानी में पत्थरों के नीचे 20 लोगों के दबे होने की आशंका, ब्लास्टिंग की तैयारी - Bhiwani Mountain Collapsed

 


हरियाणा के भिवानी जिले के तोशाम एरिया में शनिवार सुबह पहाड़ दरकने से हुए हादसे के बाद दूसरे दिन रविवार को भी बचाव अभियान जारी है। बड़े पत्थरों में होल करके डाइनामाइट लगाकर अब ब्लास्ट की तैयारी है। इसके लिए घटनास्थल व आसपास का एरिया सील कर दिया गया है। उसके बाद इन पत्थरों को साइड में खिसकाया जाएगा।


मलबे से शवों के मिलने का सिलसिला अभी भी जारी है। रविवार सुबह तक मृतकों की संख्या 5 हो गई है। देर रात रेस्क्यू टीम को मलबे में दबा एक और शव मिला। शव किसी मशीन ऑपरेटर का बताया जा रहा है, जो पंजाब का रहने वाला है। हादसे के बाद मलबे में 20 से ज्यादा लोंगों के दबे होने की आशंका जताई गई।


NDRF के डिप्टी डायरेक्टर बीआर मीणा ने बताया कि शनिवार देर रात धुंध बढ़ जाने के कारण डाडम में रेस्क्यू ऑपरेशन में दिक्कत आई। सुबह भी यहां पर घनी धुंध छाई हुई रही। सिर्फ 5 फीट तक विजिबिलिटी है। एक बहुत बड़ा पत्थर रेस्क्यू में बाधा पैदा कर रहा है। टीम उस पत्थर में बड़ा छेद कर ब्लास्टिंग की तैयारी में लगी है। इस काम तक देर शाम तक का समय लग सकता है। रात को एक और बॉडी निकाली गई, उसे प्रशासन को हैंडओवर कर दिया। एक और ड्राइवर के यहां दबे होने की कन्फर्म रिपोर्ट है। NDRF की 42 सदस्यीय टीम रेस्क्यू में लगी है।


रविवार सुबह तक 6 मशीनों के लगातार काम करने के बावजूद घटनास्थल से सिर्फ आधा मलबा ही हटाया जा सका है। देर रात टीम ने स्निफर डॉग और थ्रो वॉल्ट मशीनों से दबे लोगों की सर्चिंग की थी और 4 से ज्यादा पॉइंट पर लोगों के दबे होने के संकेत दिए थे, लेकिन मशीन से वहां पर किसी के जिंदा होने के सिग्नल नहीं मिले।


मेंटेन नहीं था हाजिरी रजिस्टर, यह लापरवाही

खनन नियमों के अनुसार, खदान में काम करने के लिए उतरने वाले मजदूरों, ड्राइवर, ऑपरेटर के लिए एक हाजिरी रजिस्टर होना चाहिए। कौन कितने बजे काम के लिए अंदर गया है, उसमें रिकॉर्ड दर्ज होता है। डाडम में जहां पर यह हादसा हुआ है, यह प्रतिबंधित एरिया है। खदान की ओर आने वाले एक मात्र रास्ते पर कंपनी ने बैरिकेडिंग कर रखी है और मुख्य रास्ते पर 6 CCTV लगाए गए हैं। रास्ते पर बगैर अनुमति के किसी के जाने पर मनाही है। इसके बावजूद यह पता न होना कि कितने लोग अंदर काम कर रहे थे और कौन-कौन अंदर था, अपने आप में खनन काम में चल रही बड़ी लापरवाही को बता रहा है, साथ ही नियमों की अनदेखी की ओर भी इशारा कर रहा है।

कोरोना ने पकड़ी स्‍पीड, सरकार ने बढ़ाईं पाबंदियां, जानें आज से क्‍या रहेगा बंद - Omicron Lockdown



हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने कोरोनावायरस और ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए गुरुग्राम और फरीदाबाद के अलावा अंबाला, पंचकूला और सोनीपत में 12 जनवरी तक सिनेमाघरों, मल्टीप्लेक्स, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क और खेल परिसर बंद करने का आदेश जारी किया है. 

इसके साथ अब केवल आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सरकारी और निजी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति की अनुमति होगी. 

मॉल और बाजार सिर्फ शाम 5 बजे तक खुल सकते हैं. 


शनिवार को हरियाणा में कोविड-19 के 552 नए मामले सामने आए हैं. वहीं, गुरुग्राम में सबसे अधिक 298 केस आए हैं.

हरनाज सिंधू बनी मिस यूनिवर्स, इस सवाल का जवाब देकर जीता दिल - Miss Universe 2021 Harnaaz Sandhu


21 साल बाद देश के लिए एक सुनहरा पल आया है. मिस यूनिवर्स 2021 का खिताब देश की बेटी हरनाज संधू (Harnaaz Sandhu) को मिला है. 70वां मिस यूनिवर्स पेजेंट इस साल 12 दिसंबर को इजराइल में हुआ. हरनाज कौर संधू (Harnaaz Kaur Sandhu) 21 साल की हैं. खास बात ये है कि इंडिया ने ये टाइटल 21 साल के लंबे समय के बाद जीता है. आइए जानते हैं कि वो कौन-सा सवाल है, जिसका जवाब देने के बाद उन्हें इस कॉम्पटीशन में मिस यूनिवर्स का खिताब मिला.

सभी टॉप तीन प्रतियोगियों से सवाल पूछा गया था कि आप दबाव का सामना कर रहीं महिलाओं को क्या सलाह देंगी? इसपर हरनाज कौर संधू (Harnaaz Kaur Sandhu) ने जवाब दिया, आपको ये मानना होगा कि आप अद्वितीय हैं और यही आपको खूबसूरत बनाती है. बाहर आएं, अपने लिए बोलना सीखें क्योंकि आप अपने जीवन के नेता हैं. इस जवाब के साथ ही हरनाज संधू से इस साल का मिस यूनिवर्स 2021 का खिताब अपने नाम कर लिया.



कौन हैं हरनाज

पंजाब के चंडीगढ़ की रहने वाली हरनाज संधू पेशे से एक मॉडल हैं. 21 साल की हरनाज ने मॉडलिंग व कई पेजेंट में हिस्सा लेने और जीत हासिल करने के बावजूद भी पढ़ाई पर पूरा ध्यान दिया. हरनाज (Harnaaz Kaur Sandhu) ने साल 2017 में मिस चंड़ीगढ़ का खिताब जीता था. इसके बाद उन्होंने मिस मैक्स इमर्जिंग स्टार इंडिया का खिताब अपने नाम किया. ये दो प्रतिष्ठित खिताब अपने नाम करने के बाद हरनाज ने मिस इंडिया 2019 में हिस्सा लिया और तब वह टॉप 12 तक पहुंची थीं. मॉडलिंग के साथ-साथ हरनाज एक्टिंग में भी कदम रख चुकी हैं. हरनाज के पास दो पंजाबी फिल्म ‘यारा दियां पू बारां’ और ‘बाई जी कुट्टांगे’ हैं.