तिल्ली (Spleen) बढ़ गयी है - घरेलूउपचार



तिल्ली (Spleen) बढ़ गयी है तो ये घरेलूउपचार बहुत काम के सिद्ध होते हैं
.
तिल्ली हमारे शरीर का एक बहुत ही बहुत महत्तवपूर्ण अंग है जो सारे शरीर की रोग प्रतिरोधी शक्ति बढ़ाने के लिये चुपचाप काम करता रहता है । तिल्ली में अक्सर समस्यायें कम होती हैं किंतु यदि कोई समस्या हो भी जाये तो आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खों के द्वारा उन पर काबू पाया जा सकता है । इस पोस्ट में जानिये कुछ ऐसे अति लाभकारी घरेलू नुस्खों के बारे में जो तिल्ली बढ़ जाने की समस्या में बहुत अच्छा परिणाम देते हैं ।
.
1 :- नीम्बू का प्रयोग :-
नीम्बू को हल्का गर्म करके उसको बीच में से काटकर उस पर सेंधा नमक लगाकर रोज दोनों समय भोजन से पूर्व चूसने से कुछ ही सप्ताहों में तिल्ली अपने आकार में वापिस आ जाती है ।
.
2 :- पपीते का सेवन :-
तिल्ली बढ़ने की समस्या में पपीते का सेवन बहुत ही लाभकारी माना जाता है । तिल्ली के रोगी को रोज एक बार कच्चे पपीते की सब्जी अथवा पके पपीते के फल का सेवन जरूर करना चाहिये ।
.
3 :- करेले का सेवन :-
करेले का सेवन तिल्ली के रोगी के लिये अमृत से कम नही होता है । तिल्ली के बढ़ जाने के रोगियों को रोज 100 मिलीलीटर करेले के रस का सेवन जरूर करना चाहिये ।
.
4 :- अजवायन का सेवन :-
अजवायन का सेवन तिल्ली के रोगी को किसी ना किसी तरह से जरूर करना चाहिये । अजवायन को भून कर भी खाया जा सकता है और कच्चा भी पानी के साथ सेवन किया जा सकता है । भूनी हुयी अजवायन को गाजर के ताजे निकाले हुये रस के साथ घोलकर भी सेवन करने से बहुत ही उत्तम लाभ प्राप्त होते हैं ।

5 :- बथुये और मूली का सेवन :-
तिल्ली के रोगी के लिये बथुये और मूली का सेवन बहुत ही ज्यादा अच्छा माना जाता है । तिल्ली बढ़ जाने पर बथुये और मूली के पत्तों का रस का सेवन किया जा सकता है अथवा चोकर वाले आटे में बथुये और मूली की चपातियॉ बना कर खायी जा सकती हैं ।
.
इस पोस्ट के माध्यम से दी गयी जानकारी हमारी समझ में पूरी तरह से हानिरहित हैं, फिर भी आपके आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श से ही इन प्रयोगों को करने की हम आपको सलाह देते हैं ।
.
इस पोस्ट के माध्यम से दी गयी यह जानकारी आपको अच्छी और लाभकारी लगी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर करें । आपके एक शेयर से किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँच सकती है और हमें भी आपके लिये और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है ।
Powered by Blogger.